Bihar News

बिहार में नौकरियों की बहार, नए साल में इन विभागों में मिलेगी नौकरी

पटना। बिहार सरकार ने नए साल में बिहार वासियों को बड़ा तोहफा दिया है। नई सरकार गठन के बाद नौकरियों की बहार आने वाली है। बिहार सरकार जो नौकरी देने जा रही है, उनमें स्थायी, संविदा और नियोजित आधारित पदों पर नौकरियाँ शामिल हैं। बता दें कि कई पदों पर बहाली की प्रक्रिया जारी भी है। खबर है कि इसे नए साल में पूरी कर ली जाएगी। इसके लिए सरकार द्वारा विभागों में रिक्तियों का ब्योरा जुटाने का कार्य किया जा रहा है।

किस विभाग में सबसे ज्यादा नौकरी

जानकारी के मुताबिक, फिलहाल 2 लाख पदों पर बहाली की प्रक्रिया जारी है। बिहार के शिक्षा विभाग में सबसे ज्यादा पद खाली हैं। शिक्षा विभाग में सहायक प्रध्यापक और शिक्षक के करीब डेढ़ लाख से ज्यादा पद खाली हैं। इस पदों पर अगले साल में नियुक्तियाँ होनी है। वहीं बिहार गृह विभाग में दरोगा, सहायक जेल अधीक्षक, सिपाही और सार्जेंट के हजारों पदों पर नियुक्तियाँ हो रही है।

इसके अलावा बिहार सरकार पंचायती राज, स्वास्थ्य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, परिवहन, नगर विकास एवं आवास, वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग में भी रिक्त पदों को भर रही है। इनमें इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में शिक्षक और गैर-शैक्षणिक पदों पर बहाली होगी।

बिहार एसएससी में 3000 से ज्यादा बहाली

बिहार के पंचायती राज विभाग में ऑडिटर, प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी, लेखापाल और तकनीकी सहायक के पदों पर बहाली होनी है। बीपीएससी और बिहार एसएससी द्वारा भी इन सभी रिक्तियों के अलावा 3000 से ज्यादा पदों पर बहाली की जाएगी। माना जा रहा है कि बिहार सरकार ने इन सभी रिक्तियों को 2021 में भर देगी।

Recent Posts

गुड़ खाने के फायदे: इन फायदों को जानकर आप गुड़ खाना शुरू कर देंगे

गुड़ खाना किसे अच्छा नहीं लगता है। चीनी के मुकाबले गुड़ खाने से कई फायदे होते हैं। डायबिटीज के मरीजों को गुड़ का सेवन करने…

नमक का जमीन पर गिरना शुभ या अशुभ? जानें

नमक का इस्तेमाल भारतीय घरों में खाने में किया जाता है। कई बार नमक का इस्तेमाल (Use of Salt) करते समय यह हाथ से गिर…

बिहार: मंदिर के देवता के नाम होगा मंदिरों और मठों की जमीन का स्वामित्व

पटना। बिहार के मंदिरों एवं मठों के नाम पर दान में दी गयी जमीन का स्वामित्व मंदिर के ही देवता के नाम पर होगा। इसको…

This website uses cookies.