Home Bihar News महिला टीचर ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, विधायक संजीव चौरसिया पर...

महिला टीचर ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, विधायक संजीव चौरसिया पर गंभीर आरोप

0
14
विधायक संजीव चौरसिया
विधायक संजीव चौरसिया

पटना। पटना के दीघा विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक संजीव चौरसिया के खिलाफ पटना की एक महिला शिक्षिका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र में शिक्षिका ने लिखा है कि बीजेपी विधायक संजीव चौरसिया महिलाओं की अस्मिता के साथ खिलवाड़ करने वालों को संरक्षण दे रहे हैं। महिला सम्मान की बात अगर प्रधानमंत्री करते हैं तो अपने विधायक के खिलाफ कार्रवाई करें।

मामला पटना के गर्दनीबाग का है। गर्दनीबाग की गर्ल्स स्कूल की महिला टीचर ने पीएम मोदी को पत्र लिखा है। पत्र में महिला ने दीघा के बीजेपी विधायक संजीव चौरसिया पर संगीन आरोप लगाया है कि महिला टीचर के साथ शारीरिक छेड़छाड़ और हत्या-बलात्कार की धमकी देने वाले एक दबंग को संरक्षण दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें -   नीतीश कुमार पर टिप्पणी रिया चक्रवर्ती को पड़ा भारी, डीजीपी ने याद दिलाई 'औकात'

विधायक पर अपराधियों को संरक्षण देने का आरोप

महिला का कहना है कि विधायक खुद थाना से लेकर महिला आयोग तक जाकर आरोपी की पैरवी कर उसे संरक्षण दे रहे हैं। इससे पीड़ित महिला का जीना मुश्किल हो गया है। दरअसल गर्दनीबाग के साधनापुरी के गर्ल्स स्कूल में पढ़ाने वाली महिला शिक्षिका ने पिछले महीने थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। प्राथमिकी में उस इलाके की वार्ड पार्षद के पति अविनाश कुमार पर बेहद ही गंभीर आरोप लगाया गया था।

महिला शिक्षिका के मुताबिक, अविनाश कुमार उर्फ मंटू ने उसके साथ शारीरिक छेड़छाड़ की और बलात्कार-हत्या की धमकी दी। फिलहाल पुलिस मामले की जाँच कर रही है। इस घटना के दो महीने बाद तक पटना पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होने पर पीड़िता परेशान हैं। पीड़िता ने बिहार राज्य महिला आयोग से भी गुहार लगाई थी। महिला की शिकायत पर महिला आयोग ने पटना पुलिस से जवाब मांगा है।

यह भी पढ़ें -   Patna news - पटना में भूकंप के झटके, दहशत में लोग घरों से निकले बाहर

पीड़ित महिला ने पीएम मोदी के साथ-साथ पत्र की एक-एक कॉपी केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा और पार्टी के दूसरे नेताओं को भी भेजी है। महिला का कहना है कि आरोपी उसे रोज धमकी दे रहा है। विधायक के संरक्षण के कारण पूरा प्रशासनिक और पुलिस तंत्र खामोश है। पत्र में बीजेपी विधायक संजीव चौरसिया के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है।