Home Vaastu Aastha बेल का पौधा या पेड़ किस दिशा में लगाना चाहिए? जानें घर...

बेल का पौधा या पेड़ किस दिशा में लगाना चाहिए? जानें घर में लगाना चाहिए या नहीं

उत्तर-पश्चिम या वायव्य कोण में बेल का पेड़ लगाने से घर और घर में रहने वाले सदस्यों के मान-सम्मान में वृद्धि होती है। परिवार का यश चारों दिशाओं में बढ़ता और फैलता है। घर के सदस्य जिस भी कार्य को करते हैं उसमें उन्हें सफलता मिलती है।

0
215
बेल का पौधा घर में कहां लगाना चाहिए?
बेल का पौधा घर में कहां लगाना चाहिए?

बेल का पौधा या पेड़ बहुत ही शुभ माना जाता है। भगवान शिव की पूजा बिना बेलपत्र के पूरा नहीं होती है। भगवान शंकर को बेलपत्र बहुत ही प्रिय है और वे मात्र एक बेलपत्र पर ही रीझ जाते हैं। इसलिए भगवान शिव की अराधाना और पूजा में बेलपत्र को जरूर शामिल किया जाता है। घर में बेल का पेड़ लगाने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। बेल के पौधे को भी तुलसी, पारिजात या हरसिंगार और शमी के पेड़ की तरह ही शुभ माना जाता है।

बेलपत्र की शुभता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि शिव जी के ऊपर बेलपत्र को चढ़ाने से भूलवश हुए पापों से मुक्ति मिल जाती है। ऐसे में लोगों के मन में यह शंका होती है कि घर में बेल का पेड़ लगाना शुभ होता है या नहीं। क्या घर में बेल का पेड़ लगाना चाहिए? यदि लगाना चाहिए तो बेल का पेड़ घर में किस दिशा में लगाना चाहिए?

घर में बेल का पेड़ किस दिशा में लगाना चाहिए?

यदि आप अपने घर में बेल का पौधा लगाना चाहते हैं तो इसे हमेशा उत्तर-पश्चिम या उत्तर-पूर्व दिशा में लगाना चाहिए। घर के इस दिशा में बेल का पौधा लगाने से घर में रहने वाले सदस्यों को कई लाभ प्राप्त होते हैं। बेल का पेड़ घर में लगाने से व्यक्ति को कई तीर्थों का भी फल प्राप्त हो जाता है। घर में बेल का पेड़ लगाने से दिशाओं के अनुरुप फल प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें -   माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए आज ही घर में लगाएं यह खास पौधा

उत्तर-पूर्व में बेल का पौधा लगाने के फायदे

घर के उत्तर-पूर्व में बेल का पौधा लगाना बहुत की श्रेष्ठ माना जाता है। इससे व्यक्ति को श्रेष्ठ फल की प्राप्ति होती है। इस दिशा में बेल लगाने से घर में माता लक्ष्मी का वास होता है। घर में रहने वाले बच्चों का विकास सही तरीके से होता है। उत्तर-पूर्व कोने में बेल लगाने से घर के मुखिया द्वारा लिया गया निर्णय स्टीक और उत्तम परिणाम देता है और उनकी निर्णय लेने की क्षमता में भी विकास होता है।

उत्तर-पश्चिम में बेल का पेड़ लगाने के फायदे

उत्तर-पश्चिम या वायव्य कोण में बेल का पेड़ लगाने से घर और घर में रहने वाले सदस्यों के मान-सम्मान में वृद्धि होती है। परिवार का यश चारों दिशाओं में बढ़ता और फैलता है। घर के सदस्य जिस भी कार्य को करते हैं उसमें उन्हें सफलता मिलती है। इस दिशा में बेल लगाने से घर के सदस्यों की आयु में वृद्धि होती है।

यह भी पढ़ें -   छिपकली भगाने के तरीके, कैसे घर से भगाएं छिपकली को? जानिए आसान तरीका

बता दें कि बेल का प्रयोग कई तरह की औषधि में भी किया जाता है। बेलपत्र से पूजा करने से व्यक्ति को जीवन में सुख-समृद्धि मिलती है। घर में बेल का पेड़ सही दिशा में लगाने से घर में कभी कोई परेशानी नहीं आती है और घर के सभी सदस्यों के बीच हमेशा प्रेम बना रहता है।

घर के आंगन में बेल का पौधा लगाने के फायदे

अबतक आपने जाना कि घर के किस दिशा में बेल लगाने से क्या होता है। अब बात करते हैं कि घर के आंगन में बेल का पौधा लगाने से क्या होता है?

घर के आंगन में बेल का पेड़ लगाने से श्रेष्ठ फलों की प्राप्ति होती है। आंगन में बेल लगाने से घर में हमेशा सुखियाँ बनी रहती है। परिवार के सदस्यों के जीवन में हमेशा उन्नति होती है।

यह भी पढ़ें -   अगर घर में अचानक दिख जाएं ये पक्षी तो होता है ऐसा...

बेल के बारे में शास्त्रों में कहा गया है कि जो व्यक्ति सुबह और शाम को बेल के पेड़ का दर्शन करता है, उसके द्वारा भूलवश या अनजाने में हुए पापों से मुक्ति मिलती है।

बेल का पौधा जो भी व्यक्ति लगाता है, उसके वंश में उत्तरोत्तर वृद्धि होती है। कोई भी उसके वंश का संपूर्ण नाश नहीं कर पाता है। वहीं दूसरी तरफ जो व्यक्ति बेल के पेड़ का अपमान करता है या उसे काटता है तो उसका और उसके वंश का सर्वनाश हो जाता है।

बेल का पेड़ यदि कहीं पर आपको दिखाई दे तो आदरभाव से उनकी सेवा करनी चाहिए और हर रोज बेल की जड़ में पानी देना चाहिए। ऐसा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और व्यक्ति को संपूर्ण फल प्रदान करते हैं और पापों से मुक्ति देते हैं।

नोट- यह जानकारी मान्यताओं पर आधारित है। बिहार न्यूज हिंदी इसपर दावा नहीं करता है।