बिहार चुनाव 2020: इन 26 सीटों पर तय होगा कि किसके सिर सजेगा ताज

0
8
बिहार चुनाव 2020
बिहार चुनाव 2020

पटना। बिहार चुनाव 2020: बिहार विधानसभा चुनाव में वोटों की गिनती जारी है। चुनाव आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक, 124 सीटों पर एनडीए आगे चल रही है और 111 सीटों पर महागठबंधन ने बढ़त बना रखा है। जैसे-जैसे सीटों पर वोटिंग की गिनती के नतीजे सामने आ रहे हैं, तस्वीर कुछ हद तक साफ होती दिख रही है। हालांकि अभी भी 26 सीटें ऐसी हैं जहां पर वोटों का मार्जिन बहुत ही कम है।

26 सीटों पर मतगणना में एनडीए और महागठबंधन के बीच 1000 से कम वोटों का अंतर है। यहां पर कभी भी कुछ भी हो सकता है। चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया है कि चुनाव के नतीजे देर रात तक आने की संभावना है। इन सीटों पर भाग्य आजमा रहे उम्मीदवारों के वोट कभी कम तो कभी ज्यादा हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें -   समर्थ नारी समर्थ भारत महिलाओं की समस्याओं के खिलाफ राज्य में सशक्त आंदोलन तेज करेगी-माया श्रीवास्तव

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे देरी से आएंगे। आयोग ने कहा है कि कोरोना की वजह ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल ज्यादा किया गया और मतदान के लिए ज्यादा मतदान केंद्र बनाए गए थे। इस वजह से वोटों की गिनती में देरी हो रही है। आयोग के अनुसार, बिहार विधानसभा चुनाव में इसबार कुल 4 करोड़ मतदाता ने अपने मत का प्रयोग किया। अभी भी 80 लाख से ज्यादा मतों की गिनती होना बाकी है।

एनडीए में जदयू का कद हुआ कमजोर

इस विधानसभा चुनाव में एक और बात जो अलग है वह है बीजेपी का प्रदर्शन। बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों के मुकाबले सबसे ज्यादा सीटें हासिल करने में कामयाब हुई है। एनडीए में जदयू की सीटें कम हो गई है। ऐसे में भाजपा जदयू के साथ इस गठबंधन में बिग ब्रदर की भूमिका में आ गई है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि इस बार यदि एनडीए की सरकार बनती है तो बीजेपी के एजेंडे हावी रहेंगे या फिर जदयू से नीतीश कुमार का एजेंडा।

यह भी पढ़ें -   संस्कार भारती, बिहार प्रदेश की साधारण सभा हुई आयोजित, सांस्कृतिक समूह का हुआ गठन

बता दें कि भाजपा ने 2013 के लोकसभा चुनाव में जब नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री का उम्मीदवार बनाया था तब नीतीश कुमार की पार्टी इसका विरोध करते हुए 17 साल पुराने गठबंधन से अलग हो गई थी। हालांकि बाद में फिर से राजद के साथ मतभेद के बाद एनडीए में वापस आ गए।