सपने में बिल्ली देखना, जानें जीवन से जुड़ी शुभ और अशुभ संकेत

0
969
सपने में बिल्ली देखना - जानें संकेत
सपने में बिल्ली देखना - जानें संकेत

सपने में लोग अक्सर कई चीजें देखते हैं। सपने में पानी देखना, सपने में दुर्गा माता को देखना, सपन में मछली देखना, सपने में काला कुत्ता देखना, सपने में छिपकली देखना जैसे कई सपने लोग देखते हैं। ऐसे ही कई बार सपने में बिल्ली भी आती है। भारत में बिल्लियों को लेकर कई मान्यताएं हैं। सपने में बिल्ली दिखना, रास्ते में जाते समय बिल्ली का रास्ता काट देना, ऐसे बातों को अशुभ माना जाता है। लोग अपना रास्ता बदल लेते हैं। भारत में बिल्ली को अपशकुन माना जाता है।

सपने में बिल्ली देखना – Sapne me Cat dekhna

स्वप्न शास्त्र के अनुसार, सपने में सफेद बिल्ली दिखना शुभ संकेत होता है। इसका मतलब है कि आपको धन लाभ होने वाला है। लेकिन यदि सपने मे काली बिल्ली दिखा है यह अशुभ संकेत माना जाता है। इसका मतलब है कि आपको धन हानि हो सकती है।

यह भी पढ़ें -   शनिवार को लोहा खरीदना क्यों होता है अशुभ, जानें क्या है वजह

सपनें में अगर बिल्ली दिखे और वह लड़ाई करते हुए दिखे तो ऐसा सपना अशुभ होता है। इसका अर्थ है कि आपका किसी व्यक्ति या परिजन के साथ विवाद हो सकता है। स्वप्न शास्त्र के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति अपने सपने में खुद को बिल्ली के साथ लड़ाई करते हुए देखता है तो यह अशुभ होता है।

सपने में खुद को बिल्ली से लड़ते देखने का मतलब है कि आपमें परिवार और समाज के प्रति द्वेष की भावना उत्पन्न होने वाली है। यह किसी व्यक्ति के लिए और उनके परिवार के लिए ठीक सपना नहीं है।

यह भी पढ़ें -   सपने में ट्रेन छूटना - क्या होता है इसका मतलब, जानें इसके शुभ-अशुभ फल

सपनें यदि कुत्ता और बिल्ली को आपस में लड़ते हुए देखते हैं तो इसका मतलब है कि आपका का सामना अपने किसी दुश्मन से हो सकता है। साथ ही आपका किसी के साथ झगड़ा हो सकता है। ऐसा सपना आने पर किसी पर भी आँख बंदकर भरोसा नहीं करें।

यदि आप सपने में दो बिल्लियों को एक साथ देखते हैं तो इसका मतलब है कि आपके अंदर संतुलन की कमी हो रही है। यह ठीक स्थिति नहीं है। आप अपने परिवार, दोस्तों और साथ काम करने वाले लोगों के साथ संतुलन बैठाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन आप सफल नहीं हो पा रेह हैं। ऐसा सपना आने का मतलब है कि दूसरों की देखभाल और ख्याल करने का समय आ गया है।

यह भी पढ़ें -   बुधवार को लोहा खरीदना चाहिए या नहीं, जानिए लोहा कब खरीदें