हरसिंगार का पौधा किस दिशा और किस दिन लगाना होता है शुभ, जानिए

हरसिंगार का पौधा घर में होने से माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा घर पर बनी रहती है। हरसिंगार के पौधे को अन्य नामों जैसे-पारिजात, शेफाली, प्राजक्ता, शिउली से भी जाना जाता है। घर में पारिजात या हरसिंगार का पौधा लगाना काफी शुभ होता है।

0
761
पारिजात का पौधा किस दिन लगाना चाहिए
पारिजात का पौधा किस दिन लगाना चाहिए

हरसिंगार का पौधा घर में होने से माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा घर पर बनी रहती है। हरसिंगार के पौधे को अन्य नामों जैसे-पारिजात, शेफाली, प्राजक्ता, शिउली से भी जाना जाता है। घर में पारिजात या हरसिंगार का पौधा लगाना काफी शुभ होता है। पारिजात के पौधे में लगने वाला सफेद फूल बहुत सुगंधित होता है।

हरसिंगार का पौधा जिस घर में होता है वहां पर हमेशा सकारात्मक वातावरण होता है। हरसिंगार के पौधे में लगने वाले सफेद फूल की डंडी का रंग नारंगी होता है।

किस दिन लगाएं पारिजात या हरसिंगार का पौधा?

घर में हरसिंगार का पौधा लगाने से घर में पैसों की कभी कमी नहीं होती है। विद्वानों का मत है कि यदि घर में हरसिंगार का पौधा लगाना हो तो सबसे शुभ दिन सोमवार या गुरुवार होता है। हरसिंगार का पौधा गुरुवार और सोमवार को लगाना शुभ माना जाता है। इस दिन पारिजात का पौधा लगाने से घर में शुभता रहती है।

यह भी पढ़ें -   माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए आज ही घर में लगाएं यह खास पौधा

किस दिशा में लगाना चाहिए हरसिंगार का पौधा?

वास्तु के अनुसार, घर में हरसिंगार का पौधा हमेशा आंगन में लगाना चाहिए और पूर्व दिशा में लगाना शुभ होता है। यदि आपके घर के गमले में हरसिंगार का पौधा लगा हुआ है तो उस गमले को हमेशा घर के पूर्व दिशा में रखें। घर का उत्तर और पूर्व दिशा शुभ होता है। उत्तर-पूर्व दिशा का कोण जिसे ईशान कोण कहा जाता है, वह स्थान काफी शुभ होता है।

जब भी आपको घर में मंदिर की स्थापना करना हो तो हमेशा ईशान कोण में करना चाहिए। ईशान कोण में पूजा करने से ईश्वर तक आपकी मनोकामना पहुंचती है। ईशान कोण में खड़े होकर पूजा करने से ईश्वरीय शक्ति से आसानी से संपर्क स्थापित हो पाता है।

यह भी पढ़ें -   बुधवार को लोहा खरीदना चाहिए या नहीं, जानिए लोहा कब खरीदें

घर में तुलसी का पौधा लगाने से घर में हमेशा शुद्ध हवा मिलती है। तुलसी का प्रयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है। यदि घर में तुलसी का पौधा नहीं है तो उसके स्थान पर हरसिंगार या पारिजात का पौधा भी लगा सकते हैं। पारिजात के पौधा को भी तुलसी के समान ही पुज्य और पवित्र माना जाता है। हरसिंगार के पौधे का प्रयोग भी औषधि के रूप में किया जाता है। हरसिंगार की पत्ती, फूल कई तरह के दर्द, पेट की समस्याओं, बुखार और खांसी तथा आर्थ्राइटिस, सूजन में फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़ें -   शनिवार को लोहा खरीदना क्यों होता है अशुभ, जानें क्या है वजह

नोट- यह धार्मिक मान्यताओं पर आधारित जानकारी है। बिहार हिंदी न्यूज इसपर किसी प्रकार का दावा नहीं करता है।