घर में रसोई घर की सही दिशा कर देगी मालामाल, जानें कहां बनवाना चाहिए?

रसोई घर की दिशा घर में सही तरीके से हो तो घर के हमेशा सुख-शांति बनी रहती है। घर के सदस्यों के बीच प्रेम और मधुरता बनी रहती है। इससे घर की आर्थिक उन्नति होती है।

0
50
रसोई घर की दिशा
रसोई घर की दिशा

रसोईघर किसी भी घर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। यदि आपके घर में रसोई घर की दिशा सही न हो तो घर में कभी भी खुशहाली नहीं रहती है। इसलिए घर में रसोई घर की दिशा सही रहना बहुत जरूरी है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई घर यदि सही दिशा में हो तो घर में रहने वाले लोगों के भाग्य में वृद्धि होती है। शुभ दिशा में रसोई घर होने से आपके मकान में माँ लक्ष्मी का निवास होगा। माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद ऐसे घरों पर हमेशा रहता है। आइए जानते हैं कि किस दिशा में बना रसोई घर आपको कर सकता है मालामाल?

घर में रसोई घर के अलावा अन्य स्थान भी होते हैं जिनका भी वास्तु के अनुसार ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है। लेकिन इनमें सबसे महत्वपूर्ण रसोईघर है। क्योंकि घर की महिलाओं का ज्यादातर समय रसोई घर में बैठता है। ऐसे में रसोईघर सही जगह पर हो तो घर में सकारात्मक परिणाम मिलते हैं। गलत जगह पर रसोईघर होने से घर में कलह की स्थिति होती है और घर का तथा घर में रहने वाले लोगों का विकास रुक जाता है। इसलिए रसोईघर हमेशा उचित जगह पर होना आवश्यक है नहीं तो इसके बुरे परिणाम देखने को मिलते हैं।

यह भी पढ़ें -   शनिवार को लोहा खरीदना क्यों होता है अशुभ, जानें क्या है वजह

रसोई घर की सही दिशा

वास्तु शास्त्र के मुताबिक, अपना मकान बनाते समय घर की रसोई घर को आग्नेय कोण या नहीं पूर्व दक्षिण दिशा में होना चाहिए। इससे घर में मंगल ग्रह की अशुभता दूर होती है। घर के इस स्थान पर रसोईघर होने से घर में हमेशा शुभ परिणाम मिलते हैं। इसलिए जब भी अपने घर में रसोई घर बनवाए हैं तो हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि आपके घर का रसोईघर की दिशा दक्षिण पूर्व में हो। यह भी पढ़ें- बेल का पौधा या पेड़ किस दिशा में लगाना चाहिए? जानें घर में लगाना चाहिए या नहीं

यह भी पढ़ें -   बाएं पैर पर छिपकली चढ़ना शुभ है या अशुभ, जानें छिपकली से जुड़े रहस्य

जब भी रसोईघर हम लोग बनवाते हैं तो वहां पर दो मुख्य चीजों का ध्यान रखना बहुत आवश्यक होता है। पहला आग की दिशा और दूसरा पानी की दिशा। रसोई घर में इन दोनों ही तत्वों का इस्तेमाल होता है। रसोई घर में चूल्हा हमेशा दक्षिण पूर्वी दिशा में होना चाहिए क्योंकि यह दिशा अग्नि की दिशा मानी जाती है। इसके अलावा बर्तन धोने के लिए जो जगह निर्धारित है, वह उत्तर दिशा में होना चाहिए। यह भी पढ़ें- माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए आज ही घर में लगाएं यह खास पौधा

रसोईघर से जुड़े हुए कुछ अन्य वास्तु टिप्स भी हैं जिसका ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। रसोई घर में कभी भी झूठे बर्तन अधिक समय तक नहीं रखना चाहिए। खाना खाने के तुरंत बाद ही जूठे बर्तनों को साफ कर देना चाहिए। ऐसा माना जाता है अधिक समय तक जूठा बर्तन रहने पर मां लक्ष्मी नाराज हो जाती है और घर में आर्थिक संकट पैदा हो जाता है। इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें। यह भी पढ़ें- अगर घर में अचानक दिख जाएं ये पक्षी तो होता है ऐसा…

यह भी पढ़ें -   हरसिंगार का पौधा किस दिशा और किस दिन लगाना होता है शुभ, जानिए

इसके अलावा रसोई घर में चाकू को कभी भी इधर-उधर नहीं रखना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार चाकू का स्थान हमेशा एक जगह पर रखना चाहिए। किचन में चाकू इधर-उधर रखने से परिवार के लोगों में गुस्सा करने की प्रवृत्ति में वृद्धि होती है। इससे रिश्तों में तनाव आता है। इसके अलावा किचन में इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुओं जैसे आटा, दाल, चावल, तेल, मसाले इत्यादि खाद्य सामग्री को पश्चिम या दक्षिण दिशा में रखना चाहिए। यह भी पढ़ें- छिपकली भगाने के तरीके, कैसे घर से भगाएं छिपकली को? जानिए आसान तरीका

बिहार न्यूज हिंदी पर ऐसे ही वास्तु की खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो करें।